html नाद, गीत, नारे

वीडियो देखें: मार्च का संगीत

“गर्मियों में मैं वासुदेव हूं और सर्दियों में एक किसान,” लगभग 70 वर्षीय बिवा महादेव गाले ने कहा। वासुदेव समुदाय के लोग भगवान कृष्ण की उपासना करते हैं और भिक्षा के लिए घर-घर जाकर लोक भक्ति गीत गाते हैं।

बिवा गाले नासिक जिले के पेठ तालुका के रायतले गांव से 20-21 फरवरी को नासिक शहर में होने वाली किसान रैली में भाग लेने आए था। वासुदेव के रूप में – जो कि उनके परिवार का पारंपरिक पेशा है – वे पेठ तालुका के कई गांवों में जाते हैं। और सितंबर से फरवरी तक वह अपने गांव में एक किसान के रूप में काम करते हैं।

कई किसान पिछले हफ्ते की रैली में अपने पारंपरिक वाद्य यंत्र साथ लेकर आए थे। यह विरोध प्रदर्शन, जो 20 फरवरी को शुरू हुआ था, 21 फरवरी की रात को तब समाप्त कर दिया गया, जब सरकार ने किसानों की मांगों को पूरा करने के लिए सहमति व्यक्त की और उन्हें एक लिखित आश्वासन दिया।

Sonya Malkari, 50, a Warli Adivasi, was playing the traditional tarpa.
PHOTO • Sanket Jain
Vasant Sahare playing the pavri at the rally.
PHOTO • Sanket Jain

बाएं: मार्च के पहले दिन (20 फरवरी, 2019) वरली आदिवासी, 50 वर्षीय सोन्या मल्करी पारंपरिक तारपा बजा रहे थे। सोन्या महाराष्ट्र के पालघर जिले के विक्रमगढ़ तालुका के साखरे गांव से आए थे और नासिक के महामार्ग बस स्टेशन पर, जहां महाराष्ट्र भर के कई जिलों के हजारों किसान रुके हुए थे, तारपा बजा रहे थे। दाएं: 55 वर्षीय वसंत सहारे, महाराष्ट्र के नासिक जिले के सुरगाणा तालुका के वांगण सुले गांव के रहने वाले हैं। वह पावरी बजा रहे थे। वसंत कोकणा आदिवासी समुदाय से हैं और वन विभाग की दो एकड़ ज़मीन पर खेती करते हैं

Biva Gale singing devotional folk songs.
PHOTO • Sanket Jain

बिवा गाले चिप्ली बजाते हुए भक्ति लोक गीत गा रहे हैं। वह भगवान कृष्ण के उपासकों के समुदाय से हैं, जो घर-घर जाते हैं और भिक्षा मांगने के लिए लोक भक्ति गीत गाते हैं। वह नासिक जिले के पेठ तालुका के रायतले गांव से आए थे

Gavit and Chavan, along with other farmers from Dindori taluka, are singing songs in praise of the farmers’ protest
PHOTO • Sanket Jain

गुलाब गावित (बाएं), आयु 49 वर्ष, तुणतुणा (एकल-तार वाला वाद्य) बजा रहे थे। वह महाराष्ट्र के नासिक जिले के दिंडोरी तालुका के फोपशी गांव से हैं। फोपशी गांव के ही, 50 वर्षीय भाऊसाहेब चव्हाण (दाएं, लाल टोपी पहने हुए), खंजरी (एक ताल वाद्य) बजा रहे थे। गावित और चव्हाण दोनों, विरोध प्रदर्शन में दिंडोरी तालुका के अन्य किसानों के साथ, किसानों की प्रशंसा में गीत गा रहे थे

Farmers dancing and singing while awaiting the outcome of the meeting between representatives of the government of Maharashtra and All India Kisan Sabha leaders
PHOTO • Sanket Jain

महाराष्ट्र सरकार के प्रतिनिधियों तथा अखिल भारतीय किसान सभा के नेताओं के बीच बैठक के परिणाम की प्रतीक्षा करते किसान, 21 फरवरी की रात को गाते और नृत्य करते हुए

हिंदी अनुवाद: मोहम्मद क़मर तबरेज़

Mohd. Qamar Tabrez is PARI’s Urdu/Hindi translator since 2015. He is a Delhi-based journalist, the author of two books, and was associated with newspapers like ‘Roznama Mera Watan’, ‘Rashtriya Sahara’, ‘Chauthi Duniya’ and ‘Avadhnama’. He has a degree in History from Aligarh Muslim University and a PhD from Jawaharlal Nehru University, Delhi. You can contact the translator here:

Sanket Jain

Sanket Jain is a journalist based in Kolhapur, Maharashtra, and a 2019 PARI Fellow.

Other stories by Sanket Jain