“लोग ‘जय जवान, जय किसान’ कहा करते थे, और सरकार हो सकता है कि जवानों का ख्याल रख रही हो, लेकिन किसान उपेक्षित हैं।” उत्तरी दिल्ली के किशनगंज इलाके की सब्ज़ी मंडी में एक विकलांग विक्रेता, 36 वर्षीय पप्पू कुमार राठौर कहते हैं। “किसान कृषि में जो कुछ निवेश कर रहे हैं वह उन्हें वापस नहीं मिल रहा है। यह अब लाभदायक व्यवसाय नहीं रहा, इसीलिए बहुत से लोग खेती छोड़ने लगे हैं।”

“दरों में उतार-चढ़ाव के कारण खेती में कोई निश्चितता नहीं है,” वह आगे कहते हैं। “हम मंडी में किसानों से मिलते हैं, और मैं कई ऐसे किसानों को जानता हूं जो अब मज़दूरों के रूप में काम कर रहे हैं। सरकार को उनकी समस्या का समाधान निकालना चाहिए क्योंकि वे हमारे अन्नदाता हैं।”

इसी मंडी में, राजस्थान के करौली से एक दूसरे सब्ज़ी विक्रेता, राधेश्याम राठौर कहते हैं, “हमारा एक कृषि परिवार था। अगर कृषि की हालत अच्छी होती, तो मेरे पिता दिल्ली नहीं आते। अब हम तीन भाई सब्ज़ियों के इसी कारोबार में हैं।”

उनके आगे बैठे, दलित समुदाय से प्याज़ और आलू के विक्रेता, 57 वर्षीय ओमप्रकाश रायस्वाल कहते हैं, “हम भी किसान थे, लेकिन पैतृक भूमि हमारे चाचाओं के बीच विभाजित होने के बाद ज़मीन का केवल एक छोटा सा टुकड़ा रह गया। इसलिए 20 साल पहले मेरे पिता आजीविका के लिए हमारे परिवार के साथ कोलाना गांव से [राजस्थान के दौसा जिले में] दिल्ली आ गए। इसीलिए हम यहां हैं। अब किसानों को कीमत नहीं मिलती, बिचौलिये मुनाफ़ा कमाते हैं। जीवित रहने के लिए किसान संघर्ष कर रहे हैं।”

vegetable sellers in Delhi's market
PHOTO • Purusottam Thakur

ऊपर बाएं: पप्पू कुमार राठौर; ऊपर दाएं: राधेश्याम राठौर; नीचे बाएं: ओमप्रकाश रायस्वाल

हिंदी अनुवाद: डॉ. मोहम्मद क़मर तबरेज़

मोहम्मद क़मर तबरेज़ 2015 से ‘पारी’ के उर्दू/हिंदी अनुवादक हैं। वह दिल्ली स्थित एक पत्रकार, दो पुस्तकों के लेखक, उर्दू समाचारपत्र ‘रोज़नामा मेरा वतन’ के न्यूज़ एडिटर हैं, और ‘राष्ट्रीय सहारा’, ‘चौथी दुनिया’ तथा ‘अवधनामा’ जैसे अख़बारों से जुड़े रहे हैं। उनके पास अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से इतिहास में स्नातक तथा जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली से पीएचडी की डिग्री है। You can contact the translator here:

Purusottam Thakur

पुरुषोत्तम ठाकुर एक स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर और डाक्यूमेंटरी फिल्म निर्माता हैं, जो छत्तीसगढ़ और ओडिशा से रिपोर्टिंग करते हैं। वह अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के लिए भी काम करते हैं और 2015 में पारी फेलो रहे हैं।

Other stories by Purusottam Thakur