राष्ट्रीय राजमार्ग 30 पर, आप छत्तीसगढ़ की राजधानी, रायपुर शहर से बस्तर के जिला मुख्यालय, जगदलपुर जा सकते हैं। इस सड़क पर, कांकेर जिले में एक छोटा सा शहर है चर्मा। चर्मा से ठीक पहले एक छोटा सा घाट है। कुछ सप्ताह पहले जब मैं उस घाट से नीचे की ओर गाड़ी चलाता हुआ जा रहा था, तो मैंने वहां 10 से 15 ग्रामीणों को देखा, जिनमें से अधिकतर महिलाएं थीं, जो क़रीब के जंगल से लकड़ियों का गट्ठर सिर पर लादे हुए वापस लौट रही थीं।

ये सभी महिलाएं दो गांवों की थीं, जो कि राजमार्ग से बहुत दूर नहीं हैं। पहला गांव था कांकेर जिले का कोचवाही और दूसरा बालोड जिले का मचंदूर गांव। ये ज्यादातर गोंड जनजाति के लोग हैं जो गरीब किसान हैं या कृषि मज़दूर के रूप में काम करते हैं।

PHOTO • Purusottam Thakur
PHOTO • Purusottam Thakur

समूह में से कुछ पुरुष लकड़ी के गट्ठर साइकिलों पर बांधे हुए थे, जब कि एक को छोड़ कर बाक़ी सभी महिलाओं ने इस अपने सिर पर उठा रखा था। मैंने उनसे बात की; उन्होंने बताया कि वे घर से भोर में ही निकल जाते हैं और 9 बजे सुबह तक लौटते हैं, आम तौर पर रविवार और मंगलवार को, अपने घरों के लिए ईंधनी लकड़ी इक्ठा करने के लिए।

PHOTO • Purusottam Thakur

हालांकि, उनमें से प्रत्येक अपने घरेलू उपयोग के लिए लकड़ियां इकट्ठा नहीं करता है। मुझे लगता है कि उनमें से कुछ लोग ईंधनी लकड़ियां इकट्ठा करने के बाद बाज़ार ले जाकर उन्हें बेचते हैं। ये गरीब लोग हैं, और यहां पर उनकी संख्या बहुत ज़्यादा है। वे लकड़ियां बेचकर कुछ पैसे कमा लेते हैं। इस संकट भरे इलाक़े में यहां के लोगों की आजीविका यही एक कमज़ोर लकड़ी है।

PHOTO • Purusottam Thakur

हिंदी अनुवादः डॉ. मोहम्मद क़मर तबरेज़

मोहम्मद क़मर तबरेज़ 2015 से ‘पारी’ के उर्दू/हिंदी अनुवादक हैं। वह दिल्ली स्थित एक पत्रकार, दो पुस्तकों के लेखक, उर्दू समाचारपत्र ‘रोज़नामा मेरा वतन’ के न्यूज़ एडिटर हैं, और ‘राष्ट्रीय सहारा’, ‘चौथी दुनिया’ तथा ‘अवधनामा’ जैसे अख़बारों से जुड़े रहे हैं। उनके पास अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से इतिहास में स्नातक तथा जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली से पीएचडी की डिग्री है। You can contact the translator here:

पुरुषोत्तम ठाकुर एक स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर और डाक्यूमेंटरी फिल्म निर्माता हैं, जो छत्तीसगढ़ और ओडिशा से रिपोर्टिंग करते हैं। वह अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के लिए भी काम करते हैं और 2015 में पारी फेलो रहे हैं।

Other stories by Purusottam Thakur